जुलाई 03, 2017

टाटा ग्लोबल बेवरेजेस ने निदेशक बोर्ड में बदलाव की घोषणा की

टाटा ग्लोबल बेवरेजेस के निदेशक बोर्ड की बैठक में बोर्ड में निम्नलिखित परिवर्तनों की घोषणा हुई::

एन चंद्रशेखरन को बोर्ड का चेयरमैन नियुक्त किया गया
टाटा ग्लोबल बेवरेजेस ने तत्काल प्रभाव से एन चंद्रशेखरन को अपने बोर्ड का निदेशक नियुक्त किया। श्री एन चंद्रशेखरन, यूएस $100 बिलियन से अधिक के कुल वार्षिक राजस्व वाली 100 से अधिक टाटा ऑपरेटिंग कंपनियों की होल्डिंग कंपनी व प्रमोटर टाटा संस के बोर्ड के चेयरमैन हैं। वे अक्टूबर 2016 में टाटा संस के बोर्ड में शामिल हुए थे और जनवरी 2017 में उनको चेयरमैन नियुक्त किया गया।

श्री चंद्रशेखरन ने टाटा स्टील, टाटा मोटर्स, टाटा पावर, इंडियन होटल्स और टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेस (टीसीएस) जैसी अनेक समूह परिचालन कंपनियों की अध्यक्षता की है जिसमें से वे टीसीएस के 2009 -17 तक कार्यकारी रहे। टाटा में उनके पेशेवर कैरियर के अलावा उनको 2016 में भारत के केन्द्रीय बैंक, भारतीय रिज़र्व बैंक के बोर्ड पर निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्होने 2015-16 में विश्व आर्थिक फोरम, दावोस में सूचना व संचार प्रौद्योगिकी उद्योग गवर्नरों के चेयरमैन के रूप में बी अपनी सेवाएं दी हैं। श्री चंद्रशेखरन, यूएसए, यूके, ऑस्ट्रेलिया तथा जापान तथा अन्य देशों के लिए भारत के द्विपक्षीय व्यापार मंच के सक्रिय सदस्य रहे हैं। उन्होने 2012-13 में भारत में आईटी सेवा फर्मों के लिए एपेक्स ट्रेड बॉडी नैस्कॉम के चेयरमैन के रूप में सेवाएं दी हैं।

अपनी नियुक्ति पर बोलते हुए श्री एन चंद्रशेखरन ने कहा, “टाटा समूह के अंदर, टाटा ग्लोबल बेवरेजेस की एक समृद्ध विरासत है तथा यह तेज चलने वाले उपभोक्ता उत्पाद बाजार में एक एक मजबूत खिलाड़ी है, जिसके पास प्रस्तावों का एक वाइब्रेंट पोर्टफोलियो है जिसमें टेटली तथा टाटा टी जैसे प्रतिष्ठित ब्रांड शामिल हैं। इस कंपनी ने इस स्थान में अपनी गहन क्षमताएं विकसित की हैं और अनेक महत्वपूर्ण उपभोक्ता रुझानों तथा आने वाले सालों में अवसरों को संबोधित करने के लिए तैयार है। इसके बोर्ड के टेयरमैन पर नियुक्ति से मैं बेहद सम्मानित महसूस कर रहा हूँ, और इस व्यवसाय के तेज विकास व मजबूती में सहायता करने के लिए, टाटा ग्लोबल बेवरेजेस की नेतृत्व टीम के साथ नजदीकी से काम करने के लिए उत्सुक हूँ।”

श्री चंद्रशेखरन ने श्री हरीश भट का स्थान लिया है जिन्होने इस बोर्ड के चेयरमैन के पद को छोड़ दिया है लेकिन वे कंपनी के बोर्ड पर गैर-कार्यकारी निदेशक के रूप में सेवाएं देना जारी रखेंगे।

सिराज चौधरी को बोर्ड में स्वतंत्र निदेशक के रूप में शामिल किया गया है
सिराज चौधरी को टाटा ग्लोबल बेवरेजेस के बोर्ड पर स्वतंत्र निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया है। वे कारगिल इंडिया के चेयरमैन हैं। कारगिल में उनका कैरियर 23 साल रहा है और उसमें भारत में लीडरशिप भूमिका के साथ-साथ जेनेवा में एक ग्लोबल कमॉडिटी ट्रेडिंग भूमिका भी शामिल है।

2007 से उनके नेतृत्व में कारगिल इंडिया ने भारत में उपभोक्ता एफएमसीजी व्यवसायों तथा संस्थागत व्यवसायों दोनो को सफलतापूर्वक निर्मित किया है, जो विश्व स्तरीय विनिर्माण सुविधा, एक मजबूत बिक्री, & वितरण नेटवर्क तथा लालच पैदा करने वाला ब्रांड पोर्टफोलियो से समर्थित है।

श्री चौधरी के पास भारतीय विदेश व्यापार संस्थान (आईआईएफटी) से एमबीए की उपाधि है तथा वे एसआरसीसी, दिल्ली विश्वविद्यालय के स्नातक हैं। वे एफआईसीसीआई में खाद्य प्रसंस्करण पर राष्ट्रीय समिति और खाद्य प्रबलीकरण के माध्यम से कुपोषण को संबोधित करने के लिए सीआईआई व जीएआईएन की पहल वाली संयुक्त पहल, खाद्य तेल प्रबलीकरण के लिए राष्ट्रीय गठजोड़ के अध्यक्ष रहे हैं। इस समय वे एनएसडीसी के अंतर्गत खाद्य उद्योग कौशल काउंसिल के अध्यक्ष हैं। वे भारत में यूएसआईबीसी की कृषि तथा खाद्य कमेटी के अध्यक्ष हैं और अमरीकी चेंबर ऑफ कॉमर्स की कृषि तथा आहार कमेटी के सह-अध्यक्ष हैं। वे भारत में अपने कृषि एजेंडा पर विश्व आर्थिक फोरम के साथ सक्रिय रूप से सहभागी रहे हैं। वे कृषि तथा खाद्य के क्षेत्र में एक विचारवान लीडर है तथा इन क्षेत्रों में अपने विचारों के लिए केन्द्र तथा राज्य सरकारे उनसे सलाह लेती रहती हैं।